10 November 2008

मारवाडी शब्द को भुना रहे ठेकेदार

मारवाडी शब्द को भुना रहे ठेकदार
जैसे तैसे चल पड़े उनका भी कारोबार
उनका भी कारोबार, कि चिंता नही समाज की
मूल जाए गर्त में, पकडो चाबी ब्याज की।
सेठों के पकडो पैर, और उनसे साधो मतलब
झंडा ऊँचा रखो अपना, दिखा-दिखा के करतब।
दिखा दिखा के करतब, यारों परवाह किसकी करनी
थू-थू करे समाज चाहे, वाह-वाह ख़ुद ही करनी
कुछ तो शर्म करो, बेशर्मों , यह कॉम हमारी माता है
जिस्म इसी का, जान इसी की, माँ-बेटे का नाता है।
प्रकाश चंडालिया

No comments: